आखिर में नेटवर्क मार्केटिंग क्यों नही कर सकता है । संजीव प्रजापति

आखिर में नेटवर्क मार्केटिंग क्यों नही कर सकता है । संजीव प्रजापति

आखिर में #नेटवर्क_मार्केटिंग क्यों नहीं कर सकता ? एक सवाल आपसे.... पढ़ाई के साथ Facebook चलाया जा सकता है, पढ़ाई के साथ YouTube चलाया जा सकता है, पढ़ाई के साथ Pub-G खेला जा सकता है, पढ़ाई के साथ Instagram चलाया जा सकता है, पढ़ाई के साथ Tik-Tok बनाया जा सकता है, तो पढ़ाई के साथ "#डायरेक्ट_सेलिंग :- वायरल युग की शुरुआत" क्यों नहीं" ? डायरेक्ट सेलिंग #एक_अनोखा_बिजनेस इसलिए भी है क्योंकि हमें अपने काम करने की स्वतंत्रता भी होती है । मैंने भी डायरेक्ट सेलिंग को अपने पढ़ाई के साथ साथ में स्टार्ट किया था । मुझे खूब याद है जब मैं ग्रेजुएशन कर रहा था उसी वक्त सितंबर 2012 में मैंने डायरेक्ट सेलिंग में पार्ट टाइम काम करने की शुरुआत की । उस समय मैंने डायरेक्ट सेलिंग में जो सीखा, जो समझा वह मेरे आज तक मेरे काम आ रहा है । डायरेक्ट सेलिंग एक ऐसा कांसेप्ट है जो हमको बेस्ट करना सिखाता है, और जितना ज्यादा हम अपना बेस्ट करेंगे उतना ही ज्यादा हम अपने परिवार के साथ में रेस्ट करेंगे ।अपने परिवार को समय देंगे इसलिए मैं कहता हूं "डायरेक्ट सेलिंग में #बेस्ट_करो_और_रेस्ट_करो " क्योंकि जिसे विश्राम से प्रेम है, श्रम वही करता है । श्रम भी करने के दो तरीके हैं एक तो यह कि हम नौकरी करें और एक यह कि हम डायरेक्ट सेलिंग का हिस्सा बने । अगर नौकरी करते हैं तो हमको 40 साल काम करने की जरूरत है। और हम डायरेक्ट सेलिंग का हिस्सा बनते हैं तो सिर्फ 4 साल । मौका हमारे पास में है, हम 40 साल काम करना चाहेंगे या 4 साल । अगर हम किसी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी का हिस्सा बनते हैं और दिन-रात करके अगर हम 4 साल मेहनत करते हैं तो अगले 40 साल में जितना पैसा हम नौकरी करके कमाएंगे उतना पैसा हम डायरेक्ट सेलिंग से कमा सकते हैं ‌। मेरा मानना है नेटवर्क मार्केटिंग हाई स्कूल के विद्यार्थियों से लागू कर दिया जाए जिससे वच्चौ को पैसे की समझ और नेटवर्क के माध्यम से हम किसी भी कार्य को कीतनी आसानी से कर सकते है । आज हमारे समाज में सबसे बड़ी दिक्कत हमारे अविभावक है , और हमारा समाज जो हमें मैकाले शिक्षा की और ढकेलने का काम करता है । एक ऐसी शिक्षा जिसका सिर्फ एक ही लक्ष्य है , समाज में सिर्फ सस्ते मजदूर और गुलाम पैदा करना । भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम जी का मानना था अगर हम पढ़ाई सिर्फ नौकरी के लिए करेंगे तो इस समाज में सिर्फ नौकर और गुलाम ही पैदा होंगे । संजीव प्रजापति 'डायरेक्ट सेलिंग एक वायरल युग की शुरुआत' के लेखक +917017392737 www.sanjeevprajapati.in

  • 0 like
  • 0 Dislike
  • 74
  • Share
  • 1664
  • Favorite
  • 20 November, 2020
Previous Next
feedback1

Coming Soon

DOWNLOAD MLM DIARY APP

appsicon